क्या Emway Froud है? ED ने क्यों जब्त किए एमवे कंपनी के 757 करोड़ रुपए

 

Kya Emway Froud Hai

ED (प्रवर्तन निदेशालय) ने Emway India की 757 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त कर ली है। ED का आरोप है की एमवे कंपनी डायरेक्ट सेलिंग के आड़ में पिरामिड स्कीम चला रही थी। 

डायरेक्ट सेलिंग और पिरामिड स्कीम में क्या फर्क होता है? Diffrence Between Direct Selling and Pyramid Scheme


Direct Selling : डायरेक्ट सेलिंग में कंपनी अपने प्रोडक्ट को सीधे ग्राहकों तक पहुंचाती है इसमें प्रोडक्ट की मार्केटिंग नही होता। इसके डिस्ट्रिब्यूटर ही इसके एडवरटाइजर होते हैं और सीधे ग्राहकों को प्रोडक्ट सेल करते हैं फिर बाद में चलकर वह ग्राहक भी कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर बन जाता है और इस तरह से यह प्रोसेस चलता जाता है, इसमें जितना ज्यादा कंपनी का नेटवर्क होता है उतना ही कंपनी को फायदा होता है। 

Pyramid Scheme : ऐसे कंपनिया जिनका फोकस प्रोडक्ट बेंचने से ज्यादा मेंबर बनाने में होता है और एक तरह से मनी सर्कुलेशन के माध्यम से पैसा कमाती है पिरामिड स्कीम कहलाती है। इन कंपनियों के प्रोडक्ट अन्य कंपनियों के मुकाबले बहुत ज्यादा महंगे होते हैं। मान लीजिए किसी प्रोडक्ट का दाम 10rs है लेकिन ये उसे 100rs बेचेंगे और 90rs का मुनाफा कमाएंगे और इसी में से कुछ पैसे अपने डिस्ट्रीब्यूटर में बांट देंगे इस तरह से ये मनी सर्कुलेशन के जरिए बिजनेस करती हैं। ये कंपनिया लोगों को जोड़कर उनको महंगे प्रोडक्ट सेल करते हैं और इस तरह से बाद में उनका पैसा उन्ही को देती है ऐसी कंपनिया ग्राहकों को सही प्रोडक्ट बेचने के बजाए अपना मुनाफा कमाने में लगे रहते हैं।

अब ED ने ये आरोप लगाया है की एमवे भी पिरामिड स्कीम के जरिए लोगों से फ्रॉड कर रही है। 

प्रवर्तन निदेशालय क्या है ? (ED Kya Hai)

प्रवर्तन निदेशालय एक वित्तीय जांच एजेंसी है। यह भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अंतर्गत आता है। इसकी स्थापना 1 मई 1956 को हुआ था तथा इसका मुख्यालय नई दिल्ली में हैं।

हाल ही में पिछले साल दिसंबर 2021 में भारत सरकार ने डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों के लिए एक गाइडलाइन जारी किया था जिसमे पिरामिड स्कीम चला रही कंपनियों को बंद करने का आदेश दिया था। 

Direct Selling Rules 2021 Pdf – Download

एमवे, भारत की सबसे पुरानी डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों में से एक है। ED के मुताबिक एमवे ने 2002 से लेकर 2022 तक डायरेक्ट सेलिंग से 27562 करोड़ रुपए इकट्ठा किए हैं। ED का कहना है एमवे हमेशा से ही पिरामिड स्कीम चलाती आ रही है, इस तरह की स्कीम फ्रॉड को बढ़ावा देती हैं। 

क्या डायरेक्ट सेलिंग इल्लीगल है ? (Is Direct Selling Illigal)


नहीं, डायरेक्ट सेलिंग एक जेन्युन और लीगल बिजनेस है और इसमें बिना एडवरटाइजमेंट के सीधे ग्राहकों तक समान सेल किया जाता है लेकिन इस आड़ में कुछ कंपनिया अपने प्रोडक्ट के दाम बहुत ज्यादा बढ़ा चढ़ा कर बेचते हैं जिसके वजह से धोखाधड़ी का मामला सामने आता है। 

इसे भी पढ़ें 


Leave a Comment