करोड़पति बना देगा यह बिजनेस, जानिए इसका बिजनेस मॉडल – Business Idea

Business Idea: बीते कुछ सालों में भारत में रियल एस्टेट के क्षेत्र में काफी ग्रोथ देखी गई है जो उद्यमियों के लिए इस क्षेत्र में अपना व्यापार बढ़ाने के लिए एक आकर्षक अवसर प्रस्तुत कर रही है, भारत में रियल स्टेट एजेंसी स्थापित करना एक फायदेमंद बिजनेस हो सकता है जो प्रोपर्टी खरीदारों और विक्रेताओं के बीच की खाई को पाट सकता है, इस लेख में हम भारत में एक रियल एस्टेट एजेंसी बिजनेस शुरू करने से जुड़े बिजनेस मॉडल, कुल निवेश और संभावित मुनाफे के बारे में जानेंगे।

रियल एस्टेट बिजनेस मॉडल

एक रियल एस्टेट एजेंसी प्रॉपर्टी खरीदारों और विक्रेताओं के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करती है, जिससे प्रॉपर्टी लेनदेन की सुविधा मिलती है। अपनी रियल एस्टेट एजेंसी को किकस्टार्ट करने के लिए, निम्नलिखित प्रमुख चरणों पर विचार करें:

मार्केट रिसर्च

आप जिस भी एरिया में अपना रियल एस्टेट एजेंसी ओपन करना चाहते हैं उस एरिया में अच्छे से मार्केट रिसर्च कर लें की वहां आपको क्लाइंट मिलेंगे या नही, आपका बिजनेस चलेगा या नही इत्यादि, इसके अलावा अपने कंपटीटर, करेंट प्रॉपर्टी ट्रेंड और अपने संभावित ग्राहकों का विश्लेषण करें।

कानूनी अनुपालन

सुनिश्चित करें कि आपका बिजनेस सभी कानूनी आवश्यकताओं का पालन करता है और आवश्यक लाइसेंस प्राप्त करता है। अपने क्षेत्र में रियल एस्टेट कानूनों और विनियमों से खुद को परिचित करें।

एक नेटवर्क बनाएं

बिल्डरों, प्रॉपर्टी डेवलपर्स और व्यक्तिगत प्रॉपर्टी मालिकों के साथ अपना मजबूत संबंध स्थापित करें क्योंकि विविध संपत्तियों की सोर्सिंग और संभावित खरीदारों को आकर्षित करने के लिए एक मजबूत नेटवर्क बनाना जरूरी है।

ऑनलाइन उपस्थिति

अपने बिजनेस को ऑनलाइन ले जाने के लिए एक प्रोफेशनल यूजर फ्रेंडली वेबसाइट बनाएं तथा लिस्टिंग प्रदर्शित करने के लिए आप सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं। बिजनेस की ऑनलाइन उपस्थिति व्यापक दर्शकों को आकर्षित करती है।

पेशेवर टीम

ग्राहकों को व्यापक सेवाएँ प्रदान करने के लिए कुशल रियल एस्टेट एजेंटों, संपत्ति प्रबंधकों और कानूनी पेशेवरों की एक टीम बनाएं।

इस बिजनेस को शुरु करने के लिए इतना आएगा लागत

कार्यालय की जगह

स्थान और आकार को ध्यान में रखते हुए एक उपयुक्त कार्यालय स्थान पट्टे पर लें या खरीदें। इसके लिए आपको 2 लाख से 5 लाख तक का इन्वेस्टमेंट लग सकता है।

प्रौद्योगिकी अवसंरचना

कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर और एक समर्पित वेबसाइट सहित एक मजबूत आईटी बुनियादी ढांचे में निवेश करें। प्रौद्योगिकी व्यय के लिए लगभग 3 लाख से 7 लाख रुपए तक लग सकता है।

विपणन और विज्ञापन

एक मार्केटिंग रणनीति विकसित करें और ऑनलाइन तथा ऑफलाइन विज्ञापन के लिए धन आवंटित करें। चुने गए चैनलों के आधार पर बजट 2 लाख से 5 लाख रुपये तक हो सकता है।

स्टाफ वेतन और प्रशिक्षण

अपनी टीम के वेतन, कमीशन और प्रशिक्षण का हिसाब रखें। कर्मचारियों से संबंधित खर्चों के लिए लगभग 8 लाख से 15 लाख रुपये अलग रखें।

कानूनी और लाइसेंस शुल्क

आवश्यक लाइसेंस प्राप्त करने और कानूनी अनुपालन से जुड़ी लागतें शामिल करें। कानूनी आवश्यकताओं के लिए बजट लगभग 1 लाख से 3 लाख रुपए लग सकता है।

इस बिजनेस से इतना होगा कमाई

रियल एस्टेट एजेंसियां ​प्रॉपर्टी लेनदेन पर कमीशन के माध्यम से राजस्व उत्पन्न करती हैं। भारत में, मानक कमीशन दरें संपत्ति मूल्य के 1% से 3% तक होती हैं। चूंकि रियल एस्टेट बाजार लगातार फल-फूल रहा है, एजेंसियां ​​लाभदायक रिटर्न की उम्मीद कर सकती हैं। एक मध्यम परिदृश्य मानते हुए, लेनदेन की मात्रा और मूल्य के आधार पर, एक रियल एस्टेट एजेंसी सालाना 20 लाख से 50 लाख रुपये तक का मुनाफा कमा सकती है।

Leave a Comment